Home नज़रिया
नज़रिया

चरण सिंह ने दिखाई राह

“आधुनिक भारत के चंद नेताओं में शुमार हैं, जिनके आर्थिक मॉडल में संभव है मौजूदा कृषि संकट का हल” भारत...

विकास की रफ्तार झूठी, आंकड़ों की साख लुटी

सरकारी आंकड़े जुटाने वाली एजेंसी एनएसएसओ से उभरे सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के नए आंकड़ों को लेकर...

पेप्सिको केस से कृषि क्षेत्र के एक और संकट की आहट

खुद को स्नैक्स बनाने वाली कंपनी कहने वाली पेप्सिको इंडिया ने गुजरात के चार किसानों के खिलाफ कानूनी...

सुप्रीम कोर्ट की साख पर ऐसा सवाल तो शायद ही कभी उठा

डॉ. भीम राव आंबेडकर ने 24 मई 1949 को कहा था, “मुझे व्यक्तिगत रूप से कोई संदेह नहीं है कि प्रधान न्यायाधीश...

आंतकवाद से पीड़ित श्रीलंका को दिखानी होगी सख्ती

21 अप्रैल रविवार को श्रीलंका में तीन चर्चों और तीन लक्जरी होटलों में हुए श्रृंखलाबद्ध बम विस्फोटों में...

जनहित में विकल्प परखने का वक्त

“इस बार एक अच्छी, जनहितकारी फसल बोने और उसे लहलहाने वाले कदमों की संभावना नजर आ रही है तो इसकी वजह है...

दंतेवाड़ा में नक्सली हमलाः तटस्थ जांच की सख्त जरूरत

यह अत्यंत परेशान करने वाली बात है कि नक्सली और माओवादी छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा क्षेत्र में जब चाहें,...

अमेरिका का एक और भड़काऊ कदम

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सभी राजनयिक मानदंडों की अनदेखी करते हुए, आठ अप्रैल को ईरान के...

स्थानीय चुनावों में तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन को तगड़ा झटका

अजेय समझे जाने वाले तुर्की के राष्ट्रपति रैचप तय्यप अर्दोआन को स्थानीय चुनावों में तगड़ा झटका लगा है।...

मीडिया, लोकतंत्र का प्रहरी?

पिछली सदी के भारतीय कार्टूनिस्टों में शंकर पिल्लै शीर्षस्थ माने जाते थे। उन्होंने 1948 में कार्टून...